You are here
MANN KI BAAT 

भारत ने अपने ब्रम्हास्त्र का किया सफल परीक्षण ,सुनकर पाकिस्तान चीन की उड़ गए होश

भारत ने देश में विकसित और परमाणु मिसाल पृथ्वी-2 का सफल टेस्ट किया है। टेस्ट ओडिशा के चांदीपुर में स्थित इंटीग्रेटेड रेंज (बालासोर)से किया गया जो की सफल रहा है।

इस दौरान डीआरडीओ के कई वैज्ञानिक वहां मौजूद थे। पहले पृथ्वी-2 मिसाइल के दो परीक्षण की योजना थी लेकिन पहले सफल परीक्षण के बाद दूसरे टेस्ट के विचार को तकनीकी समस्याओं के चलते छोड़ दिया गया ।
12 अक्टूबर 2009 को दो परीक्षण किए गए थे। दोनों सफल रहे थे। मिसाइल के प्रक्षेपण पर डीआरडीओ राडार, इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम से निगरानी की गई। बंगाल की खाड़ी में इसके प्रभाव स्थल पर एक पोत पर तैनात टीम ने नीचे आने के इसके पूरे सफर का परीक्षण किया।
war_1478600816
पृथ्वी-2 मिसाइल को साल 2003 में भारतीय सेना में शामिल किया गया था। यह पहली मिसाइल है जिसे डीआरडीओ ने इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत तैयार किया गया था। मिसाइल का सफल परीक्षण इस बात का स्पष्ट संकेत है कि भारत किसी भी आपात स्थिति का मुकाबला करने के लिए तैयार है। पृथ्वी 2 का पिछला उपयोगी परीक्षण 16 फरवरी 2016 को चांदीपुर में स्थित इंटीग्रेटेड रेंज से किया गया था।
भारत के लगातार मिसाइल टेस्ट से बौखलाए पाकिस्तान ने इस मसले को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाने की बात कही थी। पृथ्वी के इस टेस्ट को भारत का पाकिस्तान को करारा जवाब माना जा रहा है।
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा कि लगातार मिसाइट टेस्ट से क्षेत्र में शक्ति संतुलन बिगड़ जाएगा।
अजीज ने भारत की सुपरसोनिक मिसाइल के टेस्ट पर चिंता व्यक्त की थी। उन्होंने कहा थआ कि पाकिस्तान भी अपने डिफेंस के लिए आधुनिक मिसाइल तकनीक को अपग्रेड करता रहेगा। अजीज का आरोप था कि चीन के मुकाबले भारत को खड़ा करने के लिए अमरीका लगातार भारत की मदद कर रहा है। पाकिस्तान इस मामले को अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाएगा।
अग्नि-1अग्नि-2,अग्नि-3,पृथ्वी और ब्रह्मोस मिसाइल भारत के पास पहले से है। इनमें अग्नि बैलिस्टिक मिसाइल है जबकि ब्रह्रोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। एडवांस एयर डिफेंस

सिस्टम वाली इंटरसेप्टर मिसाइल 2000 किलोमीटर तक हवा में मार कर सकती है। 15 मई को बहुस्तरीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली हासिल करने की कोशिश के तहत भारत ने सुपरसोनिक इंटरसेप्टर मिसाइल का परीक्षण किया । यह मिसाइल उसके सामने आने वाली दुश्मन की किसी भी बैलिस्टिक मिसाइल को नष्ट करने की क्षमता रखती है ।

Related posts

Leave a Comment